fbpx

अनमोल ख़ज़ाने

२४ दिसंबर, २०१८

यह एक सच बात हैं कि जब आपने कोई चीज़ बड़ी खुशी और प्यार से बनाई हैं और दूसरी तरफ़ जब कोई चीज़ जो आपने जल्दबाजी और आफत में बनाई है, इन दोनों चीजों में आपको ज़मीन-आसमान का फर्क महसूस होगा।

यहाँ तक कि एक छोटा सा बच्चा भी उस अंतर को महसूस कर सकता हैं कि कौन उसके लिए बिना किसी शर्त के सच्चे दिल से कुछ कर रहा हैं और कौन उसके लिए सिर्फ सतही तौर पर किया जा रहा हैं।

सच्चे मन से की हुई कोशिश हमें खुशी और उत्साहपूर्वक उस ‘ मील का पत्थर ‘ वाले पल की तैयारी में जुटा देती हैं जो हमें सफलता के समारोह से सीधा जोड़ती हैं।

आपकी सकारात्मक ववाइब्स और रवैया योग्य परिणाम लाएंगे और इसे सभी के लिए यादगार बना देगा, खासकर आपके लिए।

एक महत्वपूर्ण समारोह की तैयारी करते समय, यदि आप बहुत तनाव महसूस करते हैं, शिकायत करते हैं और उस काम के साथ केवल ‘ करना पड़ रहा हैं ‘ सा दृष्टिकोण रखते हैं, तो आप अक्सर यहीं देखेंगे कि कई चीजें गलत तरीकेसे हो जायेगी और इसके परिणाम कभी भी वैसा नहीं मिलेगा जैसा कि आपने चाहा था। हमारे घर की शादियाँ और अच्छें अवसर की तैयारियाँ हमारा काम अवश्य ही बहुत अधिक बड़ा देते हैं, परंतु यही पल तो हमें जीवन भर की स्मृतियों का ख़ज़ाना प्रदान करते हैं।

इसीलिए अक्सर ऐसा कहा जाता हैं कि चाहे दुनिया के सभी बेहतरीन रेस्टोरेंट का खाना खा लो मगर माँ के हाथ से बने खाने का स्वाद सबसे निराला और स्वादिष्ट होता हैं।

उदाहरण के तौर पर आपके अतीत की यादें आपकी माँ या दादी/नानी के हाथ से बने केक से जुड़ी होगी ना कि किसी बेकरी से खरीदे गए उस केक से।

रजाई का वास्तविक मूल्य और उपहार, रजाई बनाने में खुशीसे लगे समय और प्रयास की सराहना है। जब आप प्राचीन क्विल्ट्स देखेंगे तब आप अक्सर यह देखेंगे कि रजाई में इस्तेमाल किए गए अधिकांश कपड़े वास्तव में परिवार के विभिन्न सदस्यों से संबंधित थे। यही भावना उस क्विल्ट को एक अनमोल विरासत और न्चिरस्थायी बना देती हैं।

इन्ही सब बातोंसे एक क्विल्ट बनती हैं ना की कोई सादिसि रज़ाई। यह एक परिवार के लिए एक बहुमूल्य विरासत हैं जिसमे कई अनमोल पलों, यादों, और ख़ुशियों को एक साथ सिला गया हैं, जो सही मायने में एक परिवार की असली धरोहर हैं।

एक तरह से, कपड़ों के उन छोटे टुकड़ों ने पूरे परिवार को एक साथ जोड़े रखने की कीमत अदा की हैं और यहीं उनके लिए एक अनमोल खजाना है।