fbpx

आनंद लें और अपने वर्तमान में रहें।

२४ जुलाई, २०१८

कुछ ऐसी चीज़ें होती हैं जिन्हें हम स्वतंत्र रूप से अपनी इच्छानुसार करते हैं, वहीं कुछ ऐसी चीज़ें भी हैं जिन्हें हर हाल में करना ही पड़ता हैं। आपके पास इसका कोई विकल्प नहीं होता।

कई बार अचानक कुछ ऐसे काम हमारे सामने आ जाते हैं जिनके बारे में हमने कभी सोचा भी नहीं होता, और आपको उन्हें करने की जिम्मेदारी लेनी पड़ती हैं, और आप चाह कर भी ऐसी परिस्थितियों से दूर नहीं भाग सकते।

यदि हमें कोई काम करना ही है और उसे ना करने के अलावा कोई और दूसरा विकल्प नहीं है, तो फिर क्यों ना उस काम को हम आनंद लेते हुए ही करे। शिकायत करने या नकारात्मक रवैया अपनाने से कोई फायदा नहीं है। कभी-कभी एक नकारात्मक मानसिकता के साथ काम करने से कुछ अच्छा होने की बजाय चीज़ें बिगड़ भी सकती हैं और फिर से उसी काम को शुरू से दोहराना पड़ जाता है।

परंतु जब आप उन परिस्थितियों में सकारात्मक होना चुनते हैं, तो आपको खुश रहने के कई दिलचस्प रास्ते मिल सकते है। और सबसे अच्छी बात यह है कि इन सभी कार्यों के दौरान हम और अन्य नियमित काम भी कर सकते हैं। अपने लाभ के लिए आज की टेक्नॉलजी का उपयोग करें, इसी टेक्नोलॉजी की बदौलत हमारा काम कितना आसान हो गया हैं, जैसे एक वक्त था जब हमें किसी दोस्त से बात करने के लिए सारा काम छोड़ कर फोन के पास बैठना पड़ता था लेकिन आज हम हेडफोन, ब्लूटूथ आदि की मदद से बड़ी आसानी से अपना दैनिक काम करते हुए चलते फिरते दोस्तों या रिश्तेदारों से फोन पर बात कर सकते हैं।
कहने का मतलब की टेक्नोलॉजी ने हमारा काम कितना आसान और सहज कर दिया इसका हम जितना भी शुक्रिया माने वो कम हैं।

इस तरह के सामान्य विकर्षण दरअसल आपको हमेशा वर्तमान में रखेंगे और ये आपको इस क्षण का आनंद लेने में सक्षम बनाते है।
देखा जाए तो खाना पकाने या कपड़े धोने के दौरान आपको कितनी एकाग्रता की आवश्यकता होती है, लेकिन, यदि आप अपने प्रत्येक काम के लिए कुछ मजेदार विचलन जोड़ते हैं तो आपका मन वास्तव में दो चीजों को एक साथ करने के लिए बड़ी आसानी खुद को तैयार कर देगा।

यदि ज़िंदगी के साथ आपका एक सकारात्मक दृष्टिकोण हैं तो आपको खुद को खुश रखने के कई सारे रास्ते मिल जाएंगे और सभी नियमित काम बहुत जल्दी और आसानी से खत्म होंगे।

हमने कई बार ट्रैफिक जाम में फंसे होने का अनुभव किया है। ये वो स्थिति होती हैं जहाँ हम चाह कर भी कुछ नहीं कर पाते। सही शब्दों में कहे तो हम वास्तव में फंसे होते हैं। इसलिए मुझे ऐसा लगता हैं कि ऐसे में शिकायत करने या घबराने का कोई मतलब नहीं है, क्योंकि ऐसा कुछ भी करने से हमारा सारा काम बिगड़ सकता है और हम और भी ज्यादा परेशान हो जाएंगे, और इस वजह से हमारे आगे के कई और काम भी बिगड़ सकते है।

इसलिए मैं तो जब भी ट्रैफिक जाम में फंस जाती हूँ, तो अपने सभी पेंडिंग फोन कॉल्स कर लेतीं हूँ, सारे ईमेल भी चेक कर लेती हूं (अगर मैं गाड़ी नहीं चला रही हूं तो )। मेरा एक और पसंदीदा काम हैं वो हैं मेरे स्मार्ट फोन पर कुछ कॉमेडी शोज देखना, या अगर कुछ मज़ेदार दोस्तों की कंपनी मिल जाये तो एक दूसरे के चुटकुले सुनते सुनाते उस हँसी और ठहाकों के साथ हम इतने मस्त हो जाते है कि हमे एहसास भी नहीं होता कि हम ट्रैफिक जाम में फंसे हुए हैं।

हमें हमारे वर्तमान में हमेशा रहना चाहिए, और हर एक पल का पूरा आनंद लेना चाहिए।

सच कहें तो फिर इतना वक़्त कहा मिल पाता हैं हमें की हम कोई कॉमेडी शो देखे या फिर चुटकुले सुने।

ये जानते हुए की ट्रैफ़िक जाम का मुझे नियमित रूप से सामना करना हैं, तो ऐसे में मैं हमेशा कार में अपने साथ पानी, फल, स्नैक्स और मेरे फोन का चार्जर अपने साथ रखती हूँ। इन सब छोटे छोटे तरीकों से मैं उस दौरान खुद को व्यस्त रखती हूं और अपनी जगह तक पहुंचने के बीच मैं बिल्कुल भी परेशान या चिडचिडी नहीं होती। मेरा फोन और मैं आगे आने वाले दिन का सामना ख़ुशीसे करने के लिए चार्ज रहतें हैं।
इस प्रकार मैंने अपनी यात्रा का पूरा आनंद उठा लिया होता है।

ज़िंदागि हर पल को जी भरके ख़ुशिसे जीने का नाम ही तो है।